moral stories in english for class 7 Archive

कठिन परिश्रम ही काफी नहीं है सफल होने के लिए।

मोहन वैसे तो बहुत कम पढ़ा-लिखा लड़का था, लेकिन मेहनती बहुत था। कम पढ़ा लिखा होने की वजह से उसको कहीं नौकरी नहीं मिलती थी। एक दिन मोहन एक लकड़ी के व्यापारी के पास पहुँचा और पूछा, “सेठजी… क्‍या मेरे …
| About Us | Contact Us | Privacy Policy | Terms and Conditions |