kabir in hindi Archive

कबीर दास के 151 दोहे

चिंता से चतुराई घटे, दु:ख से घटे शरीर। पा किये लक्ष्‍मी घटे, कह गये दास कबीर।। कबीरा खड़ा बाज़ार में, मांगे सबकी खैर। ना काहु से दोस्‍ती, न काहू से बैर।। काल करे सो आज कर, आज करे सो अब। …
| About Us | Contact Us | Privacy Policy | Terms and Conditions |