आप बुरा करते हैं, तो ही आपके साथ भी बुरा होता है।

Children Stories with Morals

Children Stories with Morals

Children Stories with Morals – एक महिला की बहुत ही पुरानी आदत थी कि वह भोजन बनाते समय एक रोटी ज्‍यादा बनाकर खिड़की में अलग रख दिया करती थी ताकि भिखारी आकर वहाँ से रोटी ले ले।

उस महिला का इकलौता पुत्र था जो कुछ समय पहले बिना कुछ बताए घर छोड़कर कहीं चला गया था। इसीलिए वह हर रोज खिड़की पर रोटी रखते समय मन ही मन प्रार्थना करती कि उसका पुत्र जल्द से जल्द सुरक्षित रूप से घर वापस लौट आए।

प्रतिदिन एक भिखारी आता और वह उस रोटी को ले जाते वक्त कहता, ”आप बुरा करते हैं, तो ही आपके साथ भी बुरा होता है।

उसके इस कथन को सुनकर वह महिला बहुत क्रोधित हो जाती थी क्‍योंकि उसे इसका गुढ़ अर्थ समझ में नहीं आता था। इसलिए वह उस भिखारी को पसंद नहीं करती थी और उस भिखारी से छुटकारा पाने के लिए एक योजना बनाई जिसके अनुसार एक दिन उसने रोटी में जहर मिला दिया और उस रोटी को रोज की तरह रसोई की खिड़की पर रखने के लिए जा रही थी, तभी उसके हाथ कांपने लगे और उसका मन भी ये काम करने के लिए गवाही नहीं दे रहा था। इसलिए उसने उस रोटी को आग में फैंक दिया ताकि कोई उसे खा न सके और वापस से रोज की तरह अच्‍छी रोटी उस खिड़की पर रख दी।

वह महिला हमेंशा अपने बेटे के वापस घर लौट आने का इंतजार करती रहती थी। अचानक उसी शाम को दरवाजे पर किसी के खटखटाने की आवाज आई। उसने दौड़कर दरवाजा खोला और भौचक्‍की रह गई क्‍योंकि दरवाजे पर उसका पुत्र खड़ा था। वह बहुत ही पतला-दुबला हो गया था। उसके कपड़े भी फटे थे और उसे देखने पर ऐसा लग रहा था जैसे बहुत ही भूखा हो।

माँ ने उसकी हालत देखकर पूछा, “बेटा, ये सब क्‍या हुआ?

पुत्र ने माँ को सारी बात बताते हुए कहा, “माँ… आज मुझे यदि वह भिखारी नहीं मिला होता, तो शायद मैं जीवित नहीं होता क्‍योंकि मुझे बहुत ही तेज भूख लगी थी और उस समय उस व्‍यक्ति ने अपनी रोटी स्‍वयं न खाकर मुझे खाने के लिए दे दी।

जब माँ ने उस भिखारी के बारें में पूछा तो माँ को अपने आप पर बड़ा ही दु:ख हुआ क्‍योंकि ये वही भिखारी था जिसको उसने मारने के लिए जहर की रोटी खिलाने का निश्‍चय किया था। यदि उसने आज वह जहर की रोटी उस भिखारी से छुटकारा पाने के लिए रख दी होती, तो आज वह भिखारी नहीं बल्कि उसका बेटा ही अपनी माँ के हाथो मर जाता। अब उस महिला को उस भिखारी के द्वारा कहे जाने वाले कथन का मतलब भी समझ में आ रहा था।

******

अच्‍छा लगा हो, तो Like/Share कर दीजिए।

FREE Subscription to get each post on EMail

4 Comments

  1. rushika April 18, 2017
  2. sunny sahsi April 23, 2016
  3. Digambar April 22, 2016
  4. priyanka pathak April 17, 2016

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

| About Us | Contact Us | Privacy Policy | Terms and Conditions |