बदला और पश्‍चाताप

Inspirational Story in Hindi - बदला और पश्‍चाताप

Inspirational Story in Hindi – बदला और पश्‍चाताप

Inspirational Story in Hindi – क्रोध वह बिमारी है जो मौका देखकर प्रकट होती है। बॉस के सामने पति की नहीं चलती है तो वह बॉस की डाँट का गुस्‍सा पत्‍नी पर उतारता है। पत्‍नी की पति पर नहीं चल पाती है तो वह पति पर आए गुस्‍से को अपने बच्‍चे पर उतारती है। बच्‍चे बेचारे किस पर अपना गुस्‍सा उतारें? मगर वह अपने गुस्‍से को अपने खिलोने तोड़ कर उन पर उतार देते है। मगर यदि गुस्‍सा उतारने के लिए कोई Object ही ना मिले तो? यकीनन वह बदले का रूप ले लेगा और इसी Human Psychology पर आधारित है ये कहानी।

धीरज घर पर ही था और डॉ. उसे गुस्‍सा Control करने की Psychology समझा रहा था कि तुम्‍हे जब भी क्रोध आए अपनी सांसो पर ध्‍यान दो और मन ही मन दस तक की गिनती गिनो, क्रोध छू मंतर हो जाएगा।

Doctor धीरज को ऐसे ना जाने कितने नुस्‍खे दे चुका था परन्‍तु नाम के विपरीत उसमें धीरज नाम की कोई चीज ही नहीं थी। ऐसा भी नही था कि वह सारी दुनिया से लड़ता, झगड़ता रहता था। उसका झगड़ा था तो बस अपनी पत्‍नी से और वह भी छोटी-छोटी बात पर।

अब भला कौनसी औरत इस बात पर मार खाएगी कि आज सब्‍जी में नमक ज्‍यादा है, चाय में शक्‍‍कर कम है, टयूब लाईट ज्‍यादा देर तक जल गई है। पर नैना मार खाती थी, सहन करती थी अपने पति को क्‍योंकि उसके पास गुस्‍सा उतारने के लिए कोई Object ही नहीं था। शादी के तीन साल हुए पर बच्‍चे थे नहीं। पडोसियों पर भी एक ही बार गुस्‍सा उतारा था तब से वह लोग आना ही बंद हो गए थे। अब या तो वह घर की दीवारों से सिर फोड़े या घर के बर्तन तोड़े या कहीं भाग जाए, पर भागना भी तो उसके लिए सरल नही था। आए दिन TV पर दिखने वाले हत्‍या, ब्‍लात्‍कार जैसे कांड को देखकर वह सोचती थी कि इससे अच्‍छा तो पति का जुल्‍म ही सह लेना ठीक है, कम से कम जिन्‍दा तो हूँ।

पर वाह री किस्‍मत, इसे भाग्‍य कहें या दुर्भाग्‍य, उसे पति के ऑफिस से फोन आया कि धीरज की तबियत अचानक खराब होने से उसे Hospital में Admit किया गया है। वह दौड़ती भागती Hospital पहुँची तो Doctors ने बताया कि धीरज को Paralysis Attack हुआ है और Attack इतना जबरदस्‍त था कि उनके शरीर का बायां हिस्‍सा बिल्‍कुल नकारा हो चुका है। इतना ही नहीं, इस लकवे के Attack से धीरज की आवाज भी चली गई है। यानी अब धीरज केवल किसी चमत्‍कार से ही वह ठीक हो सकते हैं।

नैना बदहवास सी पति के वार्ड की तरफ दौड़ी। उसने पति के चेहरे की ओर देखा। होंठ आँख सब तिरछे हो चुके थे। उसकी आँखो में आँसू आ गए। धीरज की आँखों में भी आँसू थे। नैना कुछ कहती उससे पहले ही उनके Psychology के Doctor आ गए और धीरज को डांटते हुए कहा:

”देखा मिस्‍टर धीरज! मैं आपको पहले से ही आगाह कर रहा था कि क्रोध से दूसरे का नुकसान बाद में होता है, पहले अपना खुद का नुकसान होता है। यह सब तुम्‍हारे क्रोध की वजह से हुआ है। अब भुगतो अपने गुस्‍से का फल”

सहसा नैना के मन ने सवाल किया- “फल! फल इन्‍हे कहाँ भुगतना है? पहले क्रोध में बायें हाथ का उल्‍टा हाथ मुझ पर पड़ता था, अब दहिने हाथ का पड़ेगा। धन की कमी तो है नही, Insurance की जो Policies बेची हैं, उनका Commotion तो जिन्‍दगी भर मिलने वाला ही है। Office और साथ ही Share Market जितनी उचाई चढ़ रहा था, धीरज भी तो उसी हिसाब से तरक्‍की कर रहा था। कुछ विश्‍वास पात्र नौकर थे जो ऑफिस का सारा काम संभाल सकते थे और रही बात मुझ पर अत्‍याचार की, तो उसके लिए एक नौकर रखना धीरज के लिए कोई बड़ी बात नहीं थी। मुझे खुद नही मार पाएगें तो उसके लिए भी नौकर रख लेंगे। सोचते-सोचते नैना की आँख भर आई। धीरज से नैना के आँसू छिप ना सके। उसने Doctor की ओर नैना को समझाने का इशारा किया।”

Doctor ने नैना को समझाया- नैना! डरने की कोई बात नहीं है। धीरज कि गारंटी में लेता हूँ कि वह पन्‍द्रह दिन में ठीक हो जाएगा। मेरा एक दोस्‍त है जिसको Paralysis Patients ठीक करने में 100% का रिकॉर्ड है। मैंने उससे बात भी कर ली है और इसे वहीं ले जाने के लिए आया हूँ।”

नैना हक्‍की-बक्‍की रह गई। उसे फिर धीरज के बायें हाथ का उल्‍टा थप्‍पड़ याद आ गया।

******

धीरज की विभिन्‍न प्रकार की XRay Report, MRI Report, आदि आ चुकी थी। Paralysis Doctor ने ध्‍यान से रीढ की हड्डी के एक्‍सरे पर नजर दौड़ाई। उसने गौर से MRI की Report भी देखी और नैना से कहा: नो प्रोब्‍लम रीढ की हड्डी का छोटा सा ऑपरेशन और फिर सब ठीक।”

नैना ने पूछा: खर्च कितना आएगा?”

Doctor ने बताया कि: खर्च ऑपरेशन का नही मेरे हुनर का है जो कि दस लाख बैठेगा।”

नैना ने फिर सवाल किया: और अगर ऑपरेशन फेल हो गया तो?”

Doctor ने आत्‍म विश्‍वास के साथ कहा: तो Free of Charge”

नैना ने तुरन्‍त कहा नही! ऑपरेशन फेल हुआ तो बीस लाख और अगर पूरा शरीर काम करना बंद कर दे, तो चालीस लाख। मगर जिंदा रखना है। मर गया तो एक पैसा नही।”

Doctor के माथे पर चालीस लाख सुनकर आश्‍चर्य की लकीरें उभर आई।

कहाँ तो वह जब दस लाख कहता था तब चार या पाँच लाख मिलते थे और कहाँ चालिस लाख। पर फिर भी उसने आवाज उठाई: ”मेरी Reputation का क्‍या होगा?”

नैना ने कहा: “Reputation की कीमत कोई दे नही सकता, लेकिन उसके लिए भी चालीस लाख। यानी कुल अस्‍सी लाख।”

******

अगले दिन की Breaking News यह थी कि Doctor पात्रा के हाथों एक मरीज का ऑपरेशन असफल हो गया और फिर पैराग्राफ में पूरी कहानी छपी थी कि कैसे One Side Paralysis आदमी पूरा ही लाचार हो गया।

डॉ. पात्रा की बडी ही थू-थू हो रही थी, जब कि वह इन सब झमेंलों से दूर Switzerland की सैर के लिये जा चुका था।

नैना ऑफिस स्‍टाफ की मदद से धीरज को घर ले आई थी। वह धीरज, जिसे देखकर नैना का मन पहले भय और कडवाहट से भर जाता था, आज उसी के सामने बेबस सा पड़ा था।

नैना ने गौर से धीरज की रिपोर्ट पढ़ी उसमें साफ लिखा था कि: “गरदन के नीचे का हिस्‍सा पूरी तरह से अपंग हो चुका है

और यह पढ़ते हुए अचानक धीरज की आँख में देखते हुए कहा: ”आज तक चाहे तुम्‍हारा किसी Employee  से झगड़ा हुआ हो, उसका गुस्‍सा, Traffic Signal पर ज्‍यादा देर रूकना पड़ा हो, उसकी झल्‍लाहट, किसी का Payment Late हुआ हो उसकी कड़वाहट, हर बात के गुस्‍से को उतारने के लिए Object मैं थी…. पर आज से मेरे Object तुम हो।”

कहते हुए नैना की आँखों में क्रोध की ज्‍वाला भभक उठी और उसने एक झन्‍नाटेदार थप्‍पड़ धीरज के गाल पर मार दिया। धीरज हक्‍का-बक्‍का उसे देखता रह गया। उसकी आँखों में सारे जहां का आश्‍चर्य सिमट आया। गाल पर थप्‍पड़ तो काफी तेज लगा था, लेकिन उसे दर्द गाल पर नही कहीं और महसूस हो रहा था। वहीं, जहां पहली बार उसके बायें हाथ का थप्‍पड़ खाकर नैना को महसूस हुआ था…. यानी दिल पर।

यह भी एक सच्‍चाई ही है कि पराए के मार की चोट का असर शरीर पर होता है लेकिन अपने जब मारते है, तब हर बार चोट दिल पर ही लगती है।

******

नैना गुनगुनाते हुए किचन में खाना बना रही थी। आज से पहले उसने डरते-सहमते हुए ही खाना बनाया था, पर आज उसके सामने कोई डर नही था। बड़े ही खुशनुमा अंदाज में खाना परोस कर वह धीरज की Revolving Chair की ओर बढ़ी।

धीरज के गालों पर अभी भी अंगुलियों की छाप दिख रही थी। नैना ने धीरज की ओर देखा। धीरज की आँखों से निकले आंसू उसके गालों पर लुढ़ककर सूख चूके थे, पर चेहरे पर पश्‍चाताप की लकीरे स्‍पष्‍ट दिख रही थी।

नैना ने मजाक किया: शायद आप कांग्रेस समर्थक है, इसीलिए हर दूसरे-तीसरे दिन मेरे गाल पर पंजे का निशान छाप देते थे पर Don’t worry, अब आप मुझे भी कांग्रेस समर्थक समझों और लो खाना खाओ।”

धीरज के मुंह में नैना ने पहला कौर डाला और पूछा: नमक कम तो नही है?”

धीरज ने हां में सर हिलाया। बस फिर क्‍या था। जिस तरह से धीरज नमक कम होने पर थाली फेंक दिया करता था, ठीक वैसे ही नैना ने भी थाली उठाई और जोर से फेंक दी जो कि झनझनाती हुई दूर जा गिरी। सारा खाना फर्श पर वैसे ही बिखरा था, जैसे धीरज के फेंकने पर बिखरता था।

अब नैना ने नमक का डिब्‍बा, जो कि वह सा‍थ ही लाई थी, उसमें से एक चम्‍मच नमक निकाल कर जबरदस्‍ती धीरज के मुंह में ठूस दिया। इतना नमक एक साथ मुंह में जाने से धीरज का चेहरा बिगड़ गया, जबकि नैना के चेहरे पर बदले के भाव थे। उसने एक-एक शब्‍द चबाते हुए कहा:

”नमक कम हो तो डाला जा सकता है, उसके लिए पत्‍नी को मारने की जरूरत नही होती और अगर आज तुम मन ही मन ये सोंच रहे हो कि तुम अपाहिज हो इसलिए कुछ नही कर सकते, तो जरा यह भी सोंचो कि मैं इस घर में अपाहिज से ज्‍यादा क्‍या थी? कोई भी औरत अपने ससुराल में अपाहिज से ज्‍यादा आखिर होती भी क्‍या है?”

******

Electrician की समझ में नही आ रहा था कि एक छोटे से बेड़रूम में आठ ट्यूब लाईट फिट करवाने की जरूरत क्‍या है। पर उसे तो अपने पैसों से काम था, सो पैसे लेकर चलता बना। पर धीरज की आँखों में प्रश्‍नवाचक भाव थे जिनका उत्‍तर था नैना के दिमाग में…. उसने आठों ट्यूब लाईट चालू कर दी और खुद बेड़ पर जा बैठी। धीरज इस कदर लाचार था कि उसे सहारे के बिना बेड़ तक नही लाया जा सकता था। पर नैना का मूड़ वही था कि वह उसे बेड़ पर सुलाए क्‍योंकि धीरज के कपड़ों से गंदी स्‍मैल आ रही थी।

धीरज ने टायलेट कर दिया था और नैना का मूड़ नही था कि वह उसे नहलाए-धुलाए। मूड़ होता थी कैसे? एक बार वह बीमार पड़ी थी तो धीरज ने उसके पास यह कहकर बैठने से मना कर दिया था कि उसके शरीर से दवाइयों की बदबू आती है। नैना उसी का बदला ले रही थी। धीरज को जरा ट्यूब लाईट की रोशनी में सोना पसंद नही था पर नैना को अंधरे से डर लगता था। मार के आगे डर हार गया और वह भी अंधेरे में सोने लगी थी पर आज वह बेड़ पर बैठे बड़े आराम से एक पुराने गाने की लाईन को तोड़-मरोड़ कर गा रही थी:

“सैंया जी भैये अपंग अब डर काहे का, नही करेंगे मुझे तंग अब डर काहे का”

और गाते-गाते सो गई। लेकिन अब धीरज को अहसास हो रहा था कि नैना कुछ भी ज्‍यादा नही कर रही है। जो-जो उसने नैना के साथ किया था, जितना अपमान, जितनी जिल्‍लत उसने नैना को दी थी, बेचारी उतना कर भी नही पा रही है।

सोंचते-सोंचते धीरज को याद आया कि एक बार नैना ने उसे चाय दी थी जो थोडी ठंडी हो गई थी। तब धीरज ने खुद चाय गरम करके उसे नैना के शरीर पर फेंक कर कहा था कि: “चाय इतनी गरम होनी चाहिए।

धीरज को लगा कि नैना शायद इस घटना को भूल गई है। उसने मन ही मन निश्‍चय किया कि वह कल चाहे जैसे भी हो, नैना को ये घटना याद दिलाएगा और उसकी सजा भी भुगतेगा।

धीरज के लिए पासा अब पलट चुका था। अब वह नैना के दिल में बसे सारे दर्द को धो डालना चाहता था, भले उसके लिए उसकी जान ही ना चली जाए। धीरज की कई राते व्‍हीलचेयर पर कट चूकी थी पर जो कि काटे नही कटी थी पर आज की रात वह नही चाहता था कि सुबह हो। आज की रात तो वह अपनी नैना को निहारते रहना चाहता था, जो कि बेड पर निश्चिंत सो रही थी।

******

सुबह हो चुकी थी नैना ने अंगड़ाई लेकर आंखे खोली तो धीरज को अपनी ओर देखते पाया। आज धीरज की आंखो में उसे कुछ और दिखाई दिया, जिसे वह समझ नहीं पाई। पर उन आंखो का असर था कि वह सबसे पहले धीरज को बाथरूम में ले जाकर शावर के नीचे धीरज की व्‍हीलचेयर को खड़ा कर दिया। दस मिनट बाद जब वह आश्‍वस्‍त हुई कि अब साफ हो गया होगा तो व्‍हीलचेयर से पंखे के नीचे लाकर रख दिया। ठंडी का महिना था सो धीरज के इस हवा से ठिठुर मरना तय था। पर अब वह नैना पर किए गए अत्‍याचारों के पश्‍चाताप की आग में जल रहा था, इसलिए अब उसे बाहर की ठंडी असर ही नही कर रही थी। अभी वह पूरी तरह सुखा भी नही था कि नैना चाय ले आई और उसके मुंह पर लगा दिया। धीरज ने मुंह मोड़ लिया। नैना ने सवाल किया: ”क्‍या हुआ चाय ठंडी है”

धीरज ने हाँ में सर हिलाया। चाय तो गर्म ही थी पर धीरज को तो अपने अत्‍याचारों का प्रायश्चित करना था सो उसने हाँ में सर हिला दिया और नैना के हाथ का लहराता हुआ कप सीधा धीरज की आंख पर लगा। गरम चाय से उसका आधा चेहरा झुलस गया था। नैना को दिखाने के लिए उसने दर्द भरी आह भरी लेकिन मन ही मन ही वह खुश हो रहा था कि इसबार नैना ने कुछ हटकर किया। सीधा कप फेंका जबकि उसने तो सिर्फ चाय फेंकी थी। नैना के इस विकास से वह काफी खुश था।

धीरज को अब प्रायश्चित करने का जुनून सा सवार था इसी कारण उसने अपनी सबसे प्‍यारी ड्रेस नैना से जलवा दी क्‍योंकि उसने भी कभी नैना की मनपसंद साड़ी जला दी थी।

धीरज Numerology के अनुसार अपने लिए अंक 2 को लकी और अंक 1 को अनलकी मानता था। इसलिए वह जो भी चीज खरीदता था, दो खरीदता था। घड़ी, मोबाईल, बाईक, कार, सब चीजे उसने दो-दो खरीदी थीं। लेकिन नैना ने उससे बदला लेने के लिए सब एक-एक कर दिए।

धीरज हर रोज नैना से अपने ऊपर कोई न कोई जुल्‍म करवा ही लेता था। यही तो उसका प्रायश्चित था पर नैना का फेंका गया चाय का कप उसकी आंखो के अन्‍दर कहीं गहरा जख्‍म बना चुका था जो दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा था। नैना को तो कोई परवाह थी नहीं, पर अब धीरज को भी कोई परवाह नही थी। उसने नैना से कभी इशारे से भी नही कहा कि मेरी आंख में तकलीफ है। हो सकता था कि वह आंख कि तकलीफ कहे और नैना आंख ही फोड़ दे पर धीरज को अगर यह ख्‍याल आया होता कि नैना को आंख की तकलीफ बताने से वह आंख फोड़ देगी तो धीरज जरूर बताता, आखिर यही तो उसका प्रायश्चित था।

सच मानों तो अब तो प्रायश्चित भी नही था बल्कि बात उससे भी आगे निकल चुकी थी। अब वह नैना को पसन्‍द करने लगा था। शायद ये भी Human Psychology ही है कि जो हमें सबसे ज्‍यादा तकलीफ पहुंचाता है, हम पसन्‍द भी सबसे ज्‍यादा उसी को करने लगते हैं।

******

कौन कब किसके दिल का हाल जान पाया है। नैना को भी कहां पता था कि धीरज खुद अपने गुस्‍से की वजह से परेशान था इसीलिए तो वह Psychology के Doctor का ट्रीटमेंट ले रहा था पर नैना को भी इस बात का पता कहां था पर धीरज की बिगड़ रही आंख उसके सामने थी और सामने था उसका राजदार Doctor पात्रा।

नैना ने निश्‍चय किया कि धीरज की आंखो का इलाज भी वह Doctor पात्रा से ही करवाएगी या फिर उसके द्वारा बताए गए किसी Doctor से जो उसका राजदार बन सके। उसने धीरज की आंखो में आंखे डालकर कहा: ”यह है एक बार ऐसे ही तुमने मेरा सर किचन की दिवार पर मारा था।”

धीरज को याद आया वह मन ही मन चौंका और उसने मन में खुद को ही गाली दी: ओ तेरी कि, वो तो याद ही नही आया, चलो कोई बात नही आज सर फुड़वा लेता हूँ।”

उसने मन के भावों को जाहि‍र नही होने दिया और नैना को डर की Acting करते हुए देखने लगा। नैना ने कहा: डरो मत मेरा वह बदला पूरा हो चुका है। मुझे तुम पर खाली चाय उंडेलनी थी पर मैंने चीनी मिट्टी का कप भी तुम्‍हारे सर पर फेंका था जिससे कि सर पर चोट लगे, पर तुम थोड़ा उछल गए थे और आंखो में चोट लगी।”

अचानक ही नैना चौं‍क पड़ी उसे याद आया: “हाँ! तुम उछले थे, लेकिन तुम्‍हारे गरदन के नीचे का पूरा हिस्‍सा तो बेकार है (और जैसे उसके सामने फिल्‍म सी चलने लगी…) तुम्‍हारा हाथ भी बेकार है, पर तुमने हाथों से अपने चेहरे का बचाव किया था।

जोर-जोर से चिल्‍लाते हुए उसने रोशनदान में रखे चीनी मिट्टी के गमले को उठा लिया और तेजी से धीरज की तरफ फेंका। धीरज बिजली की तेजी से Wheelchair से दूर जा खड़ा हुआ। गमला भी Wheelchair से दूर ही गिरा। नैना हक्‍की-बक्‍की सी धीरज को देख रही थी। धीरज चेहरे पर उदासी लिए फिर रोशन दान की ओर गया, उसने एक गमला उठा कर नैना के हाथ में दिया और खुद Wheelchair पर बैठ गया और नैना से कहा: ”नैना, I Promise, इस बार नही भागूंगा”

धीरज की आंखो में आंसू थे… और हाँ! मेरी जेब में सुसाइड नोट भी है जिस पर लिखा है कि मैं आत्‍महत्‍या कर रहा हूँ। तुम्‍हे कुछ नही होगा। Throw it.”

धीरज का यह रूप देखकर नैना पिछड गई। धीरज ने आगे कहा:

डॉ. पात्रा ने मुझे उसी दिन ठीक कर दिया था और वो सब कुछ बता भी दिया था जो तुमने उनसे कहा था। सुनकर मैं थोडा हैरान तो हुआ था मगर फिर मैं भी ये जानना चाहता था कि आखिर तुम मुझे अपाहिज बना कर क्‍यों रखना चाहती थीं। इसलिए तुम्‍हारी मंशा जानने के लिए ही मैं ठीक होकर भी अपाहिज बना रहा। 

चुप रहकर पहली बार तुम्‍हारे अन्‍दर अपने आप को बोलते हुए देखा और ये जान पाया कि किन-किन बैकार की बातों के लिए मैंने तुम्‍हें Torture किया। मुझे अपने आप से घृणा होने लगी और इसीलिए तुम्‍हारा मुझ पर किया जाने वाला हर अत्‍याचार मुझे मेरे किए गए किसी कृत्‍य के प्रायश्चित के समान लगने लगा। “

नैना रहा-सहा बदला और धीरज का बचा-खुचा पश्‍चाताप, दोनों आंसू के रूप में बह रहे थे।

******

अच्‍छा लगा हो, तो Like/Share कर दीजिए।

FREE Subscription to get each post on EMail

6 Comments

  1. Ram singh April 6, 2016
  2. SONU GUPA March 9, 2016
  3. shankar raw October 9, 2015
  4. Ankita August 16, 2015
  5. Naveen Gupta August 13, 2015
  6. dipika August 13, 2015

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

| About Us | Contact Us | Privacy Policy | Terms and Conditions |